Friday, July 5, 2013

सूचना एवं संचार तकनीकी के जरिए ग्रामीण सशक्तिकरण एवं वित्तीय समावेशन




(श्री एस पी मिश्रा द्वारा इंस्टीट्यूशन ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकामनीकेशन इंजीनियर्स द्वारा आयोजित राष्ट्रीय  संगोष्ठी मे दिये गए भाषण का हिन्दी रूपान्तर अंग्रेजी की मूल प्रति  http://lucknowcentral.blogspot.in पर उपलब्ध)

शुरू में मैं आयोजकों को इस राष्ट्रीय संगोष्ठी मे मुझे आमंत्रित करने हेतु धन्यवाद देना चाहूंगा ।  मैंने  बैंकिंग डोमेन से "वित्तीय समावेशन"  विषय का चयन किया है जिसकी सफलता मुख्य रूप से सूचना एवं संचार तकनीकी पर निर्भर है.  मेरा स्पष्ट मत है कि वित्तीय समावेशन का डिजिटल  समावेशन से सीधा समानुपातिक रिश्ता है ।


वित्तीय समावेशन

वित्तीय समावेशन समाज के अल्प आय वर्ग के वर्गों के लिए सस्ती कीमत पर बैंकिंग एवं वित्तीय सेवाओं का  वितरण है.
 वित्तीय समावेशन क्यों ?
 
सार्वजनिक वस्तुओं और सेवाओं की निर्बाध  उबलब्धता  खुले  और कुशल समाज की एक अनिवार्य शर्त     है.चूंकि बैंकिंग सेवाएं सार्वजनिक वस्तुओं और जीवन की अनिवार्य आवश्यकता की प्रकृति में होती हैं बिना किसी भेदभाव के पूरी आबादी को बैंकिंग और भुगतान सेवाओं की उपलब्धता इस सार्वजनिक नीति    का मुख्य उद्देश्य है.

यह राष्ट्र की मुख्य धारा में समाज के अंतिम व्यक्ति को लाने में मदद करेगी .

लगातार 9% (लगभग) सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर को बनाए रखने के औपचारिक वित्तीय प्रणाली में बैंकिंग रहित  और बैंकिंग जनसंख्या के नीचे के एक बड़े वर्ग के  आत्मसात की आवश्यकता है.

अब तक बैंकों तक न आने वाली  बचत प्राप्त करना, परिसंपत्ति निर्माण करना  और क्रेडिट प्रावधान के माध्यम से उत्पादक क्षमता बढ़ाना
 
वित्तीय समावेशन 'समावेशी विकास' के लिए एक पूर्व अपेक्षित शर्त है, ये प्रमुख सरकारी एजेंडा है ।

क्यों वित्तीय बहिष्कार हुआ?

बैंकिंग कवरेज से आज भी आबादी का एक बड़ा हिस्सा वंचित है विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में शाखा नेटवर्क की अपर्याप्तता के कारण
 
31.03.2012 के अनुसार भारत में सभी बैंकों के शाखा नेटवर्क निम्नवत है । 


सभी वाणिज्यिक  बैंक
173
जिनमे अनुसूचित बैंक  *
169
*ग्रामीण बैंक
82
गैर अनुसूचित बैंक
4
 
बैंक की शाखाओं का नेटवर्क (31.03.212)
 

यह देखा जा सकता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में 70% आबादी के लिए, शाखाओं की हिस्सेदारी केवल 37% है।  देश में 6 लाख गांवों में से केवल  5% गांवो मे बैंक शाखा है और 296 देश में बैंकिंग जिलों के तहत कर रहे हैं.
कौन बाहर रखा गया है ?

       सीमांत किसान
       भूमिहीन किसान / मजदूर
       मौखिक पट्टेदार
       स्वरोजगारी
       शहरी स्लम डेवलपर्स
       प्रवासी
       सामाजिक बहिष्कृत समूह
       वरिष्ठ नागरिक
       महिलाएँ
       और लगभग सभी गरीब ग्रामीण

वित्तीय बहिष्कार के परिणाम
परिणाम सेवाओं की प्रकृति और अन उपलब्धता की सीमा के आधार पर भिन्न हो सकते हैं. यह छोटे व्यवसाय के उपयोग की कमी की वजह बन सकता है, यात्रा मे वृद्धि , अपराध की घटनाओं मे वृद्धि , सामान्य निवेश में गिरावट, ऋण मिलने मे परेशानिया  या अत्यधिक दरों पर अनौपचारिक स्रोतों से ऋण और बेरोजगारी मे वृद्धि आदि भी इसके परिणाम ओ सकते हैं।  छोटे उद्योग धंधो को काफी नुकसान हो सकता है क्यों कि वे  पूंजी के अभाव मे  मध्यम वर्ग और उच्च आय वाले उपभोक्ताओं तक नहीं पहुँच सकेगे । उच्च कैश हैंडलिंग लागत, पैसे के प्रेषण में देरी आदि भी इसका कारण है . मेरी  व्यक्तिगत सोच है कि वित्तीय बहिष्कार, सामाजिक बहिष्कार मे परिणित हो  सकता है.
 
स्वतंत्रता के बाद वित्तीय समावेशन हेतु किए गए उपाय
सहकारी आंदोलन
भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना
 बैंकों का  राष्ट्रीयकरण
लीड बैंक योजना
ग्रामीण बैंक
सेवा क्षेत्र दृष्टिकोण
स्वयं सहायता समूह

लेकिन फिर भी हम असफल रहे ! क्यों?
-प्रौद्योगिकी की  अनुपस्थिति
-पहुंच और कवरेज की  अनुपस्थिति
-उपयुक्त डिलिवरी तंत्र की कमी
-एक बिजनेस मॉडल न होना

क्या किया जाना चाहिए?
अधिक से अधिक शाखाएं ग्रामीण क्षेत्रों में खोले जाने की आवश्यकता है. लेकिन यह  बैंक शाखाओं के खुलने मे आपरेशन की उच्च लागत और कम राजस्व की प्राप्ति  के कारण  अनार्थिक और अलाभकारी  है. यह जरूरी है कि ऐसे मॉडल विकसित किए जाएँ जिससे बैंकिंग सुविधाएं न्यूनतम निवेश के साथ सस्ती कीमत पर बैंक रहित  क्षेत्रों में प्रदान की जा सके ।  
लगभग सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक जो वित्तीय समावेशन परियोजना के मुख्य हितधारक हैं वह चूंकि सी बी एस (कोर बैंकिंग सोल्यूशंस) पर हैं, जो कोई भी मॉडल अपनाया जाए, कनेक्टिविटी और प्रौद्योगिकी चुनौती बनी हुई है।

वित्तीय समावेश को संबोधित करने के लिए 3 मॉडल मूल रूप से कर रहे हैं.
(I)              शाखा मॉडल

भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशों के अनुसार, बैंकों  को बैंक रहित जिलो मे 5000 से अधिक और अन्य जिलों में 10000  से अधिक जनसंख्या वाले गांवों में सामान्य ईंट और मोर्टार शाखाएं खोलना  आवश्यक हैं. बहुत  अंदरूनी हिस्सों में ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी लीज लाइने  उपलब्ध नहीं हैं और इसलिए वीसेट, कोई और  कम कीमत की प्रभावी मजबूत वैकल्पिक प्रणाली विकसित होने तक,  शाखाएं खोलने के लिए एकमात्र विकल्प है. शुरुआत में राजस्व की तुलना में परिचालन लागत अधिक होती है और इसलिए शाखा विस्तार एक समस्या है।

(2) यूएसबी(अल्ट्रा स्माल ब्रांच )  मॉडल

जहां सामान्य शाखा व्यवहार्य नहीं है, वहाँ  बैंक अत्यंत  लघु शाखाओं को (यूएसबी) खोल सकते हैं। बुनियादी ढांचे के मामले मे वस्तुता ये सामान्य शाखाये हैं  लेकिन  लेनदेन की मात्रा और प्रकार पर कुछ प्रतिबंधों और कार्य दिवसों में कुछ छूट और  इन शाखाओं मे  कर्मचारियों की संख्या के दृष्टि कोण से प्रभावी  लागत को  कम किया जा सकता है ।
 
       (3) व्यापार प्रदाता मॉडल

भारतीय रिजर्व बैंक के व्यवसाय शिक्षक (बिजनेस फेसिल्टेटर ) और व्यापार संवाददाता की नियुक्ति की अनुमति दी है. बीएफ क्षेत्र में भ्रमण  करता है और किसान क्रेडिट कार्ड, जमा आदि, खातों के खोलने के लिए कारोबार यानी आवेदन जुटाने का कम करता है जबकि व्यापार प्रदाता  स्थानीय लोगों को बुनियादी बैंकिंग सेवाएं प्रदान करता है. ये व्यापार प्रदाता  स्वाभाविक रूप से प्रणाली और प्रौद्योगिकी के अनुसार  दो अलग अलग प्रकार के होते हैं पहली  व्यक्ति या एनजीओ की तरह की एक इकाई, दूसरी कारपोरेट, फर्म, एनबीएफसी आदि हो सकते  है.

(1)कॉर्पोरेट व्यापार प्रदाता  
इन व्यापार  प्रदाताओ ने  सेवा और निपटान के लिए बैंकों के साथ टाई अप किया है. वे उप बीसी की नियुक्ति या उनकी ओर से ग्राहक सेवा केंद्र  (कस्टमर सर्विस सेंटर  या सी एस पी ) बनाते हैं . वे उप बीसी या सीएसपी के कार्य या आचरण के लिए बैंक के प्रति उत्तरदायी हैं। ये  बैंक से  दावा मुआवजा कमीशन प्राप्त करते हैं  और उप बीसी और सीएसपी के साथ  पारिश्रमिक शेयर करते हैं । यह  मॉडल  सामान्य रूप से मोबाइल फोन के उपयोग पर आधारित है और इसलिए लागत बहुत कम आती  है. लेकिन फिर भी ऐसे बहुत गाँव हैं जहां मोबाइल की कनेक्टिविटी भी उपलब्ध नहीं है।
       मोबाइल आधारित मॉडल दो प्रकार के होते हैं ~ कार्ड आधारित और कार्ड रहित

- कार्ड आधारित:
इस मॉडल के तहत विशेष उद्देश्य से  बनाया गया एक मोबाइल जिसमे  एक कैमरा और जीपीआरएस की सुविधा होती है प्रयोग किया जाता है।  अन्य उपकरणो  मे ब्लूटूथ के माध्यम से मोबाइल फोन के साथ जुड़ा एक बॉयोमीट्रिक डिवाइस और मुद्रण प्राप्तियों के लिए एक पोर्टेबल छोटा  प्रिंटर होता है. खाता खोलने  के लिए आवेदन फार्म भरा जाता है और ग्राहक के अंगूठे का निशान उस पर लगवाया जाता  है. सीएसपी फार्म की तस्वीर खीचता है  और जीपीआरएस के माध्यम से बी सी  के सर्वर मे  भेजता है।  अंत में जाँच के बाद, फार्म की  हार्ड कॉपी सीएसपी द्वारा सम्बद्ध शाखा को सत्यापन के लिए भेजी  जाती  है।  सत्यापन के बाद डेटा, कार्ड जारी करने के लिए भेजा जाता है. कार्ड मिलने के बाद ग्राहक लेनदेन के लिए अपनी सुविधा के अनुसार सीएसपी से संपर्क करता है। कार्ड का डेटा मोबाइल द्वारा पढ़ा जाता है  और उसके बाद ग्राहक द्वारा बायोमेट्रिक डिवाइस के माध्यम से  लेन - देन को प्रमाणित किया जाता है।  एक मुद्रित रसीद उत्पन्न होती है जिसे  ग्राहक को दिया जाता है.

 
                 














कार्ड रहित

-इसमे  बिक्री के प्वाइंट (पीओएस) मशीन तथा स्मार्ट कार्ड की लागत से बचा जाता है और इस  रूप में यह मॉडल लागत के हिसाब से किफ़ायती  है
- पीसी कियोस्क के बुनियादी ढांचे और उंगलियों के निशान लेने वाले  उपकरण की लागत से बचा जा सकता है .
-त्वरित और अद्यतन,  ग्राहक  मोबाइल का उपयोग करते हुए सीएसपी द्वारा  यूएसएसडी आधारित संदेश द्वारा समर्थित, वास्तविक समय लेनदेन.
Ø तीन स्तर की सुरक्षा यानी ग्राहक के मोबाइल नंबर, एक बार प्रयोग करने योग्य पिन किताब और
  ग्राहक खुद के द्वारा बनाई गई PIN में पर्याप्त सुरक्षा

Ø ग्राहक किसी भी स्थान सीमा के बिना किसी भी सीएसपी पर कारोबार कर  सकता है.  ग्राहक  सीएसपी से बातचीत करता है और  संबंधित बैंकिंग लेनदेन  की सुविधा का उपयोग  करता है .

व्यक्तिगत व्यबसाय प्रदाता

इस मॉडल मे कोई व्यक्ति बैंक के साथ अनुबंध करता है इसमे लेनदेन की सुरक्षा सुनिश्चित करने के अलावा कनेक्टिविटी और निपटान के लिए बैंक स्तर पर कुछ तंत्र की आवश्यकता होती है, जैसे एसबीआई ने इस उद्देश्य  के लिए बहुत बढ़िया तंत्र तैयार किया है और  मजबूत प्रणाली विकसित की है । इस हेतु बिशेष  सर्वर लगाया गया है और  URL आधारित पहुँच प्रदान की गई  हैं।  जिसमे  व्यक्तिगत व्यबसाय प्रदाता  के लिए एक आईडी, पासवर्ड  और बॉयोमीट्रिक प्रमाणीकरण की आवश्यकता है।  ग्राहक के भी  सभी प्रकार के लेनदेन लिए बॉयोमीट्रिक प्रमाणीकरण की आवश्यकता होती है. व्यबसाय प्रदाता  व्यक्ति पर नकद लेंन  देन पर दैनिक सीमा  के अलावा नकद लेनदेन की  अंतर दिन सीमा भी निर्धारित की जाती है
 
 

"वित्तीय समावेशन" में महत्वपूर्ण सफलता कारक क्या हैं?
-शाखा रहित बैंकिंग मॉडल के उपयोग के माध्यम से बैंको की लागत मे कमी ।
-अंतिम छोर तक  कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए सही सक्षम सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का चुनाव  
 -व्यबस्था से आर्थिक लाभ
-वित्तीय समावेशन के सभी 4 स्तम्भ  यथा बचत, ऋण, मुद्रा प्रेषण और माइक्रो इंश्योरेंस, माइक्रो एसआईपी एवं  माइक्रो पेंशन:

राष्ट्रीय प्रतिबद्धता
सार्वभौमिक वित्तीय समावेशन की दिशा कदम उठाना  एक राष्ट्रीय प्रतिबद्धता के साथ ही हमारे देश के लिए एक सार्वजनिक नीति की प्राथमिकता है सभी छ: लाख  गांवों को बैंकिंग सेवाओं तक पहुंचाने  के परम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, वित्तीय समावेशन  बैंकों के लिए एक व्यवहार्य लाभप्रद व्यवसाय प्रस्ताव बनाया जाना  है. यह हो सके इसके लिए  डिलीवरी मॉडल इतनी  सावधानी से तैयार किया जाना चाहिए कि  यह एक  लागत केंद्रित मॉडल से राजस्व उत्पन्न करने वाले मॉडल मे परिवर्तित हो सके  यह ग्राहको को उनके दरवाजे पर गुणवत्ता बैंकिंग सेवाये उपलब्ध करने  के साथ  बैंकों के लिए  व्यापार के अवसर उत्पन्न करने में मदद करे
 
यह तभी स्थायी हो सकेगी जब  बैंकिंग सेवाओं के वितरण मे कम से कम, निम्नलिखित चार उत्पाद शामिल हों
एक बचत व ओवरड्राफ्ट खाता
एक प्रेषण उत्पाद, इलेक्ट्रॉनिक लाभ हस्तांतरण (EBT) और अन्य प्रेषण के लिए
एक शुद्ध बचत उत्पाद, आदर्शता  एक आवर्ती जमा योजना
उद्यमी क्रेडिट ~एक किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) या एक सामान्य क्रेडिट कार्ड (जीसीसी) के रूप में

डिजिटल समावेशन और वित्तीय समावेशन साथ साथ चलना चाहिए
ब्रॉडबैंड 21 वीं सदी के लिए ऊर्जा  है. जमीनी स्तर पर नवीन आविष्कारों के लिए यदि बैंडविड्थ दिया जाता है, तो वे  लाखों अभिनव खोजे  लागू करने के लिए तैयार हैं. ग्रामीण भारत मे  मुख्य रूप से आवाज संचार के लिए मोबाइल टेलीफोनी की काफी अच्छा कवरेज है, वहीं इंटरनेट / ब्रॉडबैंड सेवाओं के  प्रभाव अभी आने बाकी हैं  3 जी / 4 जी निर्णायक  हो सकते है यदि इनकी कीमत अनुकूल हो क्योकि ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों में बड़ी आबादी में  इंटरनेट तक पहुँचने की इच्छा है और उनमें से कुछ  सार्वजनिक कियोस्क / साझा प्रणाली के माध्यम से इसका उपयोग भी कर रहे हैं। तथापि  ग्रामीण भारत, अभी भी सस्ती कीमत पर गहन इंटरनेट प्रवेश के लिए इंतजार कर रहा है।  इस पृष्ठ भूमि मे  सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) को  ग्रामीण भारत में सामाजिक - आर्थिक विकास मे उत्प्रेरक  की भूमिका निभाना है  जहां अभी तक  स्वास्थ्य शिक्षा और वित्तीय सेवाओं में बुनियादी सुविधाओं का अभाव है।
 
निष्कर्ष

मोबाइल टेलीफोनी के तेज विकास ने ग्रामीण भारत मे संपर्क बढ़ाया है और इसने  ग्रामीण भारत के सामाजिक - आर्थिक मुख्यधारा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।  फिर भी  तेज ब्रॉडबैंड के माध्यम से इंटरनेट की  गहन पैठ ही केवल समग्र विकास सुनिश्चित करेगी  जो सस्ती कीमत पर डिजिटल और वित्तीय समावेशन के लिए आवश्यक है. ज्यादातर लोगों की गलत धारणा के विपरीत ग्रामीण भारत मे विशाल अप्रयुक्त क्षमता है . वित्तीय समावेश और डिजिटल समावेशन इस  तरह से समान है कि एक मे उपयोग और दूसरे मे जागरूकता शामिल है । वित्तीय समावेशन बहुत महत्वपूर्ण है, यह एक वैश्विक मुद्दा है, और दोनो पर जोर विभिन्न देशो मे  भिन्न होता है. बड़े पैमाने पर बुनियादी सुविधाओं के साथ विकसित देशों के लिए, वित्तीय उत्पादों / सेवाओं के लिए उपयोग चिंता की बात नहीं है. उनके लिए यह एक वित्तीय साक्षरता का मुद्दा  अधिक है. भारत जैसे विकासशील देशों में  देश बुनियादी ढांचा   एक बडी  चुनौती है . देश की जनसंख्या इंगित करती है कि  ग्रामीण जनसंख्या मे 50 प्रतिशत आबादी 25 वर्ष से कम लोगो की है इसलिए  बढ़ रही साक्षरता दर के सा ब्रॉडबैंड और प्रौद्योगिकी आधारित उत्पादों की  मांग में निरंतर तेजी आती रहेगी ।  
 मुझे यकीन है कि दूरसंचार की संपर्क क्रांति वित्तीय समावेशन सहित  समग्र ग्रामीण विकास में परिवर्तित होगी लेकिन डिजिटल समावेशन  ग्रामीण सशक्तिकरण की कुंजी है।

                                                ^^^^^^^^^^^^^
                                                शिव प्रकाश मिश्रा
                                     http://shivemishra.blogspot.in
                                    http://lucknowentral.blogspot.in
 

 

 

1 comment:

  1. हम सरकार अनुमोदित कर रहे हैं और प्रमाणित ऋण ऋणदाता हमारी कंपनी व्यक्तिगत से अपने विभाग से स्पष्ट करने के लिए 2% मौका ब्याज दर पर वित्तीय मदद के लिए बातचीत के जरिए देख रहे हैं जो इच्छुक व्यक्तियों या कंपनियों के लिए औद्योगिक ऋण को लेकर ऋण की पेशकश नहीं करता है।, शुरू या आप व्यापार में वृद्धि एक पाउंड (£) में दी गई हमारी कंपनी ऋण से ऋण, डॉलर ($) और यूरो के साथ। तो अब एक ऋण के लिए अधिक जानकारी के लिए हमसे संपर्क करना चाहिए रुचि रखते हैं, जो लोगों के लागू होते हैं। उधारकर्ताओं के डेटा की जानकारी भरने। Jenniferdawsonloanfirm20@gmail.com: के माध्यम से अब हमसे संपर्क करें
    (2) राज्य:
    (3) पता:
    (4) शहर:
    (5) सेक्स:
    (6) वैवाहिक स्थिति:
    (7) काम:
    (8) मोबाइल फोन नंबर:
    (9) मासिक आय:
    (10) ऋण राशि की आवश्यकता:
    (11) ऋण की अवधि:
    (12) ऋण उद्देश्य:

    हम तुम से जल्द सुनवाई के लिए तत्पर हैं के रूप में अपनी समझ के लिए धन्यवाद।

    ई-मेल: jenniferdawsonloanfirm20@gmail.com

    ReplyDelete